fbpx

बीजेपी नहीं झुकेगी, इस प्लान के जरिये शिवसेना के बिना बनाएगी महाराष्ट्र में सरकार

Author

Categories

Share

बीजेपी नहीं झुकेगी, इस प्लान के जरिये शिवसेना के बिना बनाएगी महाराष्ट्र में सरकार

सूत्रों के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने ये साफ़ कर दिया है कि वो शिवसेना के सामने नहीं झुकेगी, महाराष्ट्र में शिव सेना ने 50-50 सीटों के बंटवारे के फॉर्मूले पर गठबंधन सरकार बनाने की मांग की है। भाजपा ने दावा किया है कि वो शिवसेना के साथ या बिना गठबंधन के सरकार बनाने के लिए तैयार है।

महाराष्ट्र में सरकार

सूत्रों के अनुसार बीजेपी 30 अक्टूबर को अपने विधायक दल के नेता का चुनाव करने की संभावना है, जिसके तुरंत बाद, वो महाराष्ट्र में सरकार बनाने का दावा करने के लिए राज्यपाल बीएस कोश्यारी से मिलेंगे। बीजेपी सरकार बनाने में छोटे दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों की मदद लेगी।

अगर बीजेपी अपने प्लान बी से काम करती है, तो मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, अन्य नेताओं के साथ 31 अक्टूबर को शपथ लेंगे।

महारष्ट्र राज्यपाल द्वारा बीजेपी को बहुमत साबित करने का समय दिए जाने के बाद भाजपा फिर से शिवसेना के साथ बातचीत कर रही है। फिर भी अगर शिवसेना सहमत नहीं होती है, तो शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। बीजेपी एनसीपी पर अपनी उम्मीद जता रही है। अगर NCP पार्टी किसी तरह विधानसभा में विश्वास मत का बहिष्कार करने का फैसला करती है, तो भाजपा के लिए बहुमत साबित करना आसान होगा।

एनसीपी से उम्मीद

महाराष्ट्र में एनसीपी से बीजेपी को उम्मीद

आपको बता दे कि अगर एनसीपी के 54 विधायक विश्वास मत का बहिस्कार कर देते हैं, तो 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा की ताकत घटकर 234 हो जाएगी, जिसका आधा हिस्सा 117 है। इसलिए, बीजेपी, जो 105 सीटें जीतकर राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है, आसानी से जीत सकती है छोटे दलों या निर्दलीय विधायकों की मदद से बहुमत साबित कर पाएगी।

साथ ही साथ आपको बताते चले बीजेपी का दावा है कि उसके कम से कम 15 निर्दलीय विधायकों का समर्थन प्राप्त है।

इसके अलावा, बीजेपी ने कहा है कि बहुमत साबित करने के बाद, शिवसेना को मंत्रालय में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी, लेकिन उनकी शर्तों पर नहीं। 50:50 के फार्मूले पर कार्रवाई नहीं होगी, लेकिन सद्भावना के संकेत के रूप में, भाजपा शिवसेना को डिप्टी सीएम का पद दे सकती है।

महाराष्ट्र के राजयपाल को फडणवीस दिवाली की शुभकामनाये देते हुए

बीजेपी के प्लान बी को मद्देनजर रखते हुए, गृह मंत्री अमित शाह की मुंबई यात्रा रद्द कर दी गई और इसके बजाय जेपी नड्डा और भूपेन यादव पार्टी नेताओं के साथ बैठक करने के लिए राज्य की राजधानी की यात्रा करने के लिए तैयार हैं। हालांकि, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ बैठक कार्ड पर नहीं है।

आपको बता दे चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद पार्टियां आपस में नहीं मिलीं। सोमवार को, फडणवीस और शिव सेना मंत्री दिवाकर रावते ने अलग से राज्यपाल बीएस कोश्यारी को राजभवन में अपनी दिवाली की शुभकामनाएं देने के लिए बुलाया। फडणवीस ने यह भी कहा कि उन्होंने राज्य में मौजूदा चुनाव के बाद के राजनीतिक परिदृश्य पर राज्यपाल को जानकारी दी है।

शिव सेना की मांग

क्या है शिव सेना की मांग

हम आपको बता दे कि चुनाव में 56 सीटें जीतने वाली शिवसेना चाहती है कि महाराष्ट्र में 50-50 फार्मूला लागू किया जाए, जिसके तहत दोनों सहयोगी दलों को 2.5-2.5 साल तक सरकार चलाने का मौका मिले। यही वजह है जिससे दोनों दलों के बीच सीट बंटवारे के समझौते पर विवाद के बीच, महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन में देरी हो रही है।

Author

Share

%d bloggers like this: