fbpx

मध्य प्रदेश के फ्लोर टेस्ट को लेकर बड़ी खबर, कमलनाथ सरकार की सारी कोशिशें…

Author

Categories

Share

मध्य प्रदेश के फ्लोर टेस्ट को लेकर बड़ी खबर, कमलनाथ सरकार की सारी कोशिशें…

काफी दिनों से मध्य प्रदेश में राजनीती काफी गरमाई हुई है. कांग्रेस के युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के पार्टी को छोड़ भाजपा ज्वाइन कर लेने के बाद वह लगातार सरकार पर संकट गहराया हुआ था. ऐसे में बताया जा रहा था कि कमलनाथ को सरकार बचाने के लिए फ्लोर टेस्ट से गुजरना होगा. फ्लोर टेस्ट को लेकर आज की तारीख तय कर दी गई थी. तबसे दोनों ही पक्ष मध्य प्रदेश में सरकार बनाने और बचने को लेकर अपनी हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं. आइये देखते हैं कि आज आखिर फ्लोर टेस्ट को लेकर क्या बात सामने आई…

मध्य प्रदेश के फ्लोर टेस्ट को लेकर बड़ी खबर, कमलनाथ सरकार की सारी कोशिशें...

सीएम कमलनाथ बोले-ऐसे फ्लोर टेस्ट अलोकतांत्रिक

विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने से पहले सीएम कमलनाथ ने राज्यपाल को एक पत्र भेजा। इस पत्र में आरोप लगाया गया कि बीजेपी ने कांग्रेस के कुछ विधायकों को बंदी बना लिया है। यहां वह कांग्रेस के बागी विधायकों का जिक्र कर रहे थे, जो फिलहाल बेंगलुरु में हैं। सीएम कमलनाथ ने लिखा कि ऐसी स्थिति में फ्लोर टेस्ट करवाना अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक है।

शिवराज के साथ विधानसभा पहुंचे बीजेपी विधायक

बीजेपी के सभी विधायको को तीन बसों में सवार करके विधानसभा लाया गया। इनके साथ पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान भी बस में मौजूद रहे। बीजेपी के विधायक विधानसभा पहुंच चुके हैं। एक बस में शिवराज सिंह चौहान आगे यानी कंडक्टर सीट पर बैठे थे। वहीं दूसरी बस में नरोत्तम मिश्रा कंडक्टर सीट पर दिखे।

कांग्रेस-बीजेपी दोनों ने ‘छिपाए’ विधायक

कांग्रेस ने अपने विधायकों को जयपुर में रखा था और रविवार को इन विधायकों को भोपाल लाया गया। यहां इन्हें होटल मेरियट में रखा गया था। वहीं बीजेपी के विधायकों को मनेसर से रविवार की देर रात को भोपाल लाया गया और उन्हें आमेर ग्रीन होटल में ठहराया गया। दोनों दलों ने अपने विधायकों को होटलों में रखकर आम लोगों से दूर रखा है, यह विधायकों को एकजुट रखने की रणनीति का हिस्सा रहा।

विधानसभा का क्या गणित

स्पीकर ने कांग्रेस के छह विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। कुल 230 सदस्यीय विधानसभा में दो स्थान रिक्त हैं। अब कांग्रेस के 108, बीजेपी के 107, बीएसपी के दो, एसपी का एक और निर्दलीय चार विधायक बचे हैं। यानी विधानसभा में सदस्यों की कुल संख्या 222 रह गई है। लिहाजा बहुमत के लिए 112 विधायकों की जरूरत होगी। इस तरह कांग्रेस के पास चार विधायक कम है। कांग्रेस के पास एसपी, बीएसपी और निर्दलीयों को मिलाकर कुल सात अतिरिक्त विधायकों का समर्थन हासिल है। यदि यह स्थिति रहती है तो कांग्रेस के पास कुल 115 विधायकों का समर्थन होगा। लेकिन 16 विधायकों के इस्तीफे मंजूर होने पर कांग्रेस के विधायकों की संख्या 92 ही रह जाएगी।

मध्य प्रदेश में विधानसभा सत्र का कार्यकाल

मध्य प्रदेश में आखिरकार वही हुआ जिसकी उम्मीद की जा रही थी। कोरोना की वजह से कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट से फिलहाल राहत मिल गई है। स्पीकर ने मध्य प्रदेश विधानसभा को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी गई है।

राज्यपाल में एक मिनट में खत्म किया अभिभाषण

विधानसभा में राज्यपाल लालजी टंडन के भाषण की शुरुआत में ही टोका-टाकी शुरू हो गई थी। बीजेपी की तरफ से नरोत्तम मिश्रा ने राज्यपाल से कहा कि जो सरकार अल्पमत में है, क्या राज्यपाल उसी सरकार की तारीफ की कसीदे पढ़ने आए हैं? इसके बावजूद लालजी टंडन बोलते रहे। फिर राज्यपाल ने एक मिनटे से भी कम में अपने भाषण को खत्म कर दिया। उन्होंने अंत में यह कहा कि विधायक मध्य प्रदेश के गौरव की रक्षा करें और संविधान के नियमों का पालन करें।

कहां हैं कांग्रेस के बागी विधायक

बेंगलुरु में रखे गए सिंधिया खेमे के विधायक फिलहाल कहां हैं यह फिलहाल साफ नहीं है। सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने से पहले ही ये विधायक बेंगलुरु भेज दिए गए थे।

Author

Share