क्या प्रियंका गांधी की बसों के झोल पर पोल खुल गयी है ? योगी सरकार का ख़ुलासा

Author

Categories

Share

क्या प्रियंका गांधी की बसों के झोल पर पोल खुल गयी है ? योगी सरकार का ख़ुलासा

उत्तर प्रदेश में प्रवासी मजदूरों की वापसी को लेकर जारी राजनीतिक घमासान के बीच एक बड़ा खुलासा हुआ है। कांग्रेस द्वारा दी गयी 1000 बसों की लिस्ट में बाईक, ऑटो, कार, एम्बुलेंस और अन्य एलएमवी वाहनों के नंबर शामिल करने का आरोप लगा है। आरोप के बाद  कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की ओर से भेजी गई बसों की लिस्ट का योगी सरकार ने परीक्षण करा लिया है। परीक्षण में इन बसों की लिस्ट में बहुत भारी खामियां का ख़ुलासा हुआ है।

योगी सरकार के कहने पर पुलिस आयुक्त यातायात की ओर से बसों की लिस्ट का वेरीफिकेशन किया गया। जिसके नतीजे चौंकाने वाले थे। पहली बार में जिन 54 बसों के परीक्षण किए गए, उनमें से 4 ऑटो व थ्री व्हीलर थीं। दूसरी खेप में 196 बसों के परीक्षण किए गए। जिसमें 11 ऑटो थे और साथ साथ एक एंबुलेंस व एक स्कूल बस भी थी। तीसरी सूची में 250 बसों के परीक्षण किए गए। इनमें 2 आटो व 62 ट्रक, डीसीएम, मैजिक व स्कूल बसें शामिल थीं।

चौथी सूची में 249 बसों के परीक्षण के बाद 10 ऑटो/थ्री व्हीलर व 3 आटो व प्राइवेट कार थीं। इस तरह से टोटल 1049 वाहनों में 31 थ्री व्हीलर/ऑटो व 69 एम्बुलेंस, ट्रक, ऑटो शामिल थीं। जबकि 70 वाहनों का डेटा ही उपलब्ध नही था। आरटीओ की ओर से जब  492 वाहनों की फिटनेस के परीक्षण किए गए तो उसके भी नतीजे चौंकाने वाले थे ।

जानकारी के अनुसार उनमे से 59 वाहनों की फिटनेस वैधता खत्म हो चुकी थी तथा 29 वाहनों का बीमा खत्म था। 3 वाहन ऑटो रिक्शा व कैब वाले थे। आपको बता दे कि प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव संदीप सिंह द्वारा भेजी लिस्ट के तत्काल बाद यूपी सरकार की तरफ से भी जवाब आ गया था। यूपी सरकार की ओर से कहा गया कि बसों को नोएडा और गाजियाबाद भेज दी जाएं।

तो वहीं देर रात मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव को पत्र लिखा कि सभी बसों को लखनऊ स्थित वृंदावन योजना सेक्टर- 15 और 16 में पूर्वाह्न 10 बजे लाकर खड़ी करें। साथ साथ सभी बसों के चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस, परिचालकों के परिचय पत्र और बसों के फिटनेस प्रमाण पत्र जिलाधिकारी लखनऊ को सौंप दें। जिसके बाद अनुमति पत्र दे दिए जाएंगे। मगर परीक्षण में इस सूची में भारी झोल पाया गया जिसके बाद राजनीति शुरू हो गयी है।

 

Author

Share